सबसे नए तीन पन्ने :

Tuesday, September 15, 2009

दिल की किताब कोरी है कोरी ही रहने दो

आज याद आ रहा है रेहाना सुल्तान की एक फ़िल्म का गीत जो वर्ष 1972 के आस-पास रिलीज़ हुई थी। यह एक अच्छी सामाजिक फ़िल्म थी पर अधिक नहीं चली, फ़िल्म का नाम है - यार मेरा

इसमें नायक शायद अनिल धवन है। इसका यह युगल गीत किशोर कुमार के साथ लता या आशा जी ने गाया है। इसका केवल मुखडा ही मुझे याद है -

दिल की किताब कोरी है कोरी ही रहने दो
शायद इसमें ---- है ---- ही रहने दो

बहुत लम्बा समय हो गया इसे रेडियो से नहीं सुना।

पता नहीं विविध भारती की पोटली से कब बाहर आएगा यह गीत…

8 comments:

Anonymous said...

kishore k sath lata ne hi gaya tha. asha to hargiz nahi thee.

Anonymous said...

kishore k sath lata ne hi gaya tha. asha to hargiz nahi thee.

महेन्द्र मिश्र said...

बहुत पुराना हिट गीत है . पुरानी यादे फिर तरोताजा हो गई .

Anonymous said...

अन्नपूर्णा जी, ये गीत जितेन्द्र और राखी पर फिल्माया गया था

और रफी के साथ गाया सुमन कल्याणपुर ने था, उन दिनों लता जी शंकर (जयकिशन) के साथ काम नहीं करतीं थीं

annapurna said...

बेनामी जी दो बाते पक्की है - रेहाना सुल्ताना पर ही फिल्माया गया है और किशोर कुमार ने गाया है

अल्पना वर्मा said...

'यार मेरा'[1970] फिल्म का एक और मजेदार गान था--'डर लगे तो गाना गा.'.रफी साहब का गया.
आप ने जो गीत बताया है..वह सुमन कल्यानपुर और रफी के अच्छे दोगानो में से एक है.हसरत जयपुरी के लिखे गीत को शंकर-जयकिशन ने संगीत दिया था.
yahan dekh sakte hain-

http://www.youtube.com/watch?v=YrWj1hNNKtI

अल्पना वर्मा said...

Jitendra aur Rakhi par hi filmaya gayaa hai..:)
-Benaami bilkul sahi kah rahe hain-

विक्षुब्ध सागर said...

ना तो यह रेहाना सुलतान पर फिल्माया गया है और ना ही लता या आशा ताई ने इसे गया है ! यह फिल्म यार मेरा का सुन्दर गीत है जिसे जीतेंद्र और राखी कि जोड़ी पर फिल्माया गया है ! यह फिल्म सन १९७१ में रिलीज़ हुई थी और इसके निर्देशक थे श्री आत्मा राम गीत लिखे थे हसरत जैपुरी ने और संगीत कार थे शंकर जयकिशन ...इस गीत को गया था रफी और सुमन कल्यानपुरी ने !

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिये धन्यवाद।

अपनी राय दें