सबसे नए तीन पन्ने :

Friday, August 13, 2010

बिते कल यानि 12 अगस्ट मशहूर रेडियो प्रसारक श्री मनोहर महाजन की साल गिरह

आदरणिय पाठकगण,

कल मेरा नेट कनेक्सन सर्विस प्रोवाईडर के कारण बंद रहा । इस लिये कल लिख़ने की पोस्ट को आज प्रकासित करना पड़ रहा है।
तो एक बार 1967 से 1971 तक रेडियो श्रीलंका में कार्यरत और बादमें स्वतंत्र रेडियो प्रसारक तथा टीवी और मंच कार्यक्रमो के संचालक तथा विज्ञान आधारित टीवी चेनल्स डिस्कवरी और नेशनल ज्योग्राफ़िक जैसी चेनल्स के हिन्दी भाषी डबींग़ वोईस-ओवर प्रस्तूत कर्ता श्री मनोहर महाजन साहब के कल के जनमदिन पर देरी से ही सही रेडियोनामा की और से शुभ: कामनाएँ । इन से फोन और मेईल की पहचान तो बरकरार है पर मिलने का मौका सिर्फ दो बार मिला है, जिसमें पहला तो बगैर पहचान (मेरी) दिये हुए ही था पर जब वे सुरत आये थे तब उनसे पहचान का और उनके साथ तसवीर ख़ीचवानेका मोका मिला था । हाल ही में उन्होंने किताब लिख़ी है 'यादें रेडियो सिलोन की ' जिसका जारी करनेका समरोह इसी महिनेकी 20 तारीख़ को रायपूरमें रख़ा है । नीचे मेरी उनके साथ तसवीर है ।

पियुष महेता ।
सुरत-395001.

2 comments:

annapurna said...

मनोहर महाजन जी को जन्मदिन की शुभकामनाएं !

अशोक बजाज said...

बहुत बढ़िया पोस्ट.बधाई

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिये धन्यवाद।

अपनी राय दें