सबसे नए तीन पन्ने :

Saturday, July 2, 2011

रेडियो की यादें--वेंकटाद्रि ब्रह्मान्‍डम की कलम से

वेंकटाद्रि ब्रह्मान्‍डम हैदराबाद में रहते हैं और वर्चुअल-दुनिया के हमारे मित्र हैं।
रेडियो और संगीत से उनका जुड़ाव ही इस मित्रता का सूत्र है। वो विविध-भारती और रेडियो सीलोन के पक्‍के श्रोता हैं। वेंकट एक चलते-फिरते एनसाइक्‍लोपीडिया हैं।
181635_1845947149814_1274721722_2220924_5391146_n

उनके पास पुराने गीतों का एक ज़बर्दस्‍त संग्रह है, जिसे वो अपने पास महदूद करके नहीं रखते। बल्कि खुले मन से सबके साथ शेयर करते हैं। फेसबुक पर पुराने गानों की उनकी पोस्‍टें बेहद लोकप्रिय हैं।

वेकंट आंध्रप्रदेश के तेनाली में पैदा हुए। तेनाली और हैदराबाद में पढ़े। आंध्र यूनिवर्सिटी विशाखापट्टनम से उन्‍होंने मेकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की और XLRI जमशेदपुर से MBA किया। कई मशहूर कॉरपोरेट कंपनियों में शीर्ष पदों पर काम कर चुके वेंकट बेहद सादा और सरल व्‍यक्ति हैं। रिटायर होने के बाद वे पुराने संगीत और ख़ासतौर पर मोहम्‍मद रफ़ी के गीतों के साथ अपना वक्‍त बिताते हैं। रफ़ी के बड़े भक्‍तों में वेंकट जी का नाम सबसे ऊपर आएगा। वेंकट ने बताया कि उनकी बेटी और उनकी पत्‍नी भी पुरानी फिल्‍मों के संगीत की शौकीन हैं।

ये संक्षिप्‍त-आलेख वेंकट जी ने हमारे अनुरोध पर लिखा है। चूंकि वेंकट हिंदी में नहीं लिखते इसलिए उनके लिखे को मूल रूप में आप तक पहुंचाया जा रहा है। इसके साथ ही रेडियोनामा पर अंग्रेज़ी पोस्‍टों का सिलसिला भी शुरू हो रहा है। वेंकट के इस आलेख पर अपनी राय ज़रूर दीजिएगा। अगर आप भी अपनी यादें या रेडियो के किसी मुद्दे पर लिखना चाहते हैं तो संपर्क कीजिएगा।

I am a man of mid-fifties. I am from a place called Tenali in Guntur District of Andhra Pradesh!! Ours is a traditional Brahmin family and all our family members are keen connoisseurs of fine art such as music, literature, etc.

In late fifities and the whole of sixties and seventies, there used to be a happiness in shortage!!! Especially in entertainment media!!! In stark contrast, today, there is utter chaos and agony in the plethora of mushrooming entertainment media!!!

For me, the late fifties, the whole of sixties and seventies were the Platinum Era of music and also the Golden Era of the Radio!! If I recall hard, I remember it is the year 1959 that induced me to Radio. I was just about 5 years then!! My father and elder brother used to switch on Radio and keep it switched on continuously!! But, it was I who used to get to hear it mostly, sometimes from near and sometimes from far, while playing, reading, etc.!!!

Actually, during the forties, fifties and sixties, Radio played a pivotal role in exposing the tasteful musical ears of the South Indians to the innumerable gems of songs from Hindi films and also to their many talented singers and Music Directors!!! Please notice that I did not mention ‘Lyricists’ as we never understood anything much in the Hindi/Urdu lyrics those days!! I can say we used to enjoy any great song immensely only based on its musical value: a) Tune of the song, b) Singing of the singer and c) The musical preludes and interludes!!! In fact, though I can now understand lyrics, I still hold the view that I love all the old beauties 95% only for their musical value!!! For me, great lyrics make a difference of only 5 to 10%!! Well, that is a separate subject to discuss!!

So, there is no denying the fact that Radio played a significant role in popularizing Hindi songs and thereby Hindi Films among the non-Hindi-knowing public of South India!!!

Coming back to my encounter with Radio since 1959 or so, I must say that those days, Radio Ceylon used to rule the roost, as far as old Hindi songs were concerned!! It was a pity Akashavani did not enjoy this leadership throughout the forties and fifties! Even the newly and rather lately launched Vividhbharati could establish itself only by mid-sixties!!! In Radio Ceylon, there used to be a program from morning 7.30 AM to 8 AM consisting of old songs of that period!!! Then from 8 AM, there used to be a program of new songs of that period!!! Well, I used to treasure both the ‘old songs’ and ‘new songs’ of that period as both were of almost the same excellence!!! You know what I mean!! In Radio Ceylon, there used to be programs such as ‘Ek Hi Film Se’ and the flagship program used to be ‘Hamesha Jawan Geet’ that was aired from 10 PM to 11 PM on Sundays!!! Those were the golden days!!

Radio Ceylon had some top-notch announcers such as Manohar Mahajan!!!

When I try to recall some of the very first songs that I got to hear on Radio, I remember the likes of the title song of Dil Deke Dekho, Tadpaoge Tadpaalo from Film: Barkha, Main Rikhawala from Choti Behan, Dheere Dheere Chal Chand Gagan Mein from Love Marriage, Bole Yeh Dil Ka Ishara from Santan, Tumhe Yaad Hoga Kabhi Ham Mile Thhe from Satta Bazaar, Ajab Hai Dastaan Teri Ae Zindagi from Shararat, Khoya Khoya Chand from Kala Bazar, title song of Chaudhvi Ka Chand, Zinagi Bhar Nahi Bhoolegi Woh Barsat Ki Raat from Barsaat Ki Raat, etc.

I need to thank Radio form the bottom of my heart for one very important thing, ie. Introducing me to Mohammed Rafi!! Well, when I was so very young, I used to love the singers and their voices, but never even knew their names!! To be honest, it was Lata Mangeshkar’s voice that made a first impact on me!!! I used to wonder how any girl/woman can have such a sweet and such a shrill voice!! But, Mohammed Rafi Saheb gradually grew upon me over 3-4 years from 1959. It is a different matter he is still growing upon me more and more even today!!!

I distinctly remember one Rafi song of 1964 from Film: Cha Cha Cha on Radio!!! It is : “Subha Na Aayi Sham Na Aayi”!! Whenever that song used to start on Radio, I used to run from wherever I was and used to keep my ear touched to Radio and enjoy it!!! I used to be in heavens listening to the ups and downs (of pitch and scale) of that song in Rafi Saheb’s expressive, modulated voice!! Similarly, I used to do the same for ‘Jo Wada Kiya Woh Nibhana Padega’ and some songs of Tere Ghar Ke Samne-1963, etc.

And years progressed, platinum era of hindi film music ended with mid-seventies, lots of noises, sounds have become part of music, Besura voices started getting preference over sur-baddh voices!!! So, I thought Vividhbharati too would decline over years and keep pace with the decline of music, in general! But, fortunately for genuine music lovers like me, that did not happen!!! Vividhabharati continued to be the flag bearer of old Hindi film songs!! And it, by and large, continues so even today!!

And I steadfastly continue listening to Radio in the form of Vividhbahrati!! My day starts with the morning Tere Sur Aur Mere Geet and Bhoole Bisre Geet!!! I am also happy that even until today, Vividhbharati has some great announcers comparable to those of 50’s and 60’s of Radio Ceylon!! In the form of Kamal Sharma, Yunus Khan, Ashok Sunavane, Nimmi Misra, Renu Bansal, Mamta Singh, Kanchan Prakash Sanghi, etc.

Lastly, I recall what my late mother used to say about Radio!! She used to say the pleasure of listening to songs on Radio comes from the surprise factor of not knowing which song comes next!!! On your CD player or MP3 player, you do not get that pleasure!!!

Long live Radio and long live Vividhbharati (with the same quality, of course)!!!

17 comments:

Manoj K said...

nice memories.. u deserve kudos Yunusji

Anonymous said...

बहुत अच्छी पोस्ट ! एक अहिन्दी भाषी श्रोता का हिन्दी फिल्मी गीतों के प्रति प्रेम लाजवाब हैं.
वेंकटाद्रि ब्रह्मान्‍डम जी का रेडियोनामा पर स्वागत हैं !

अन्नपूर्णा

Anonymous said...

वेन्क़टजी जब 1959 से रेडियो श्रोता है तो वे रेडियो सिलोन को जिन्होंने एक पहचान दी थी वैसे वरिष्ठ उद्दघोषक आदरणीय श्री गोपाल शर्माजी को कैसे भूल गये, जो 1956 से 1967 तक़ रेडियो सिलोन पर थे । हा, विजय किशोर दूबे की बात रेडियो सिलोन पर 1957 तक़ का ही उनका कार्यकाल होने के कारण नहीं आयी उनके लेख़में वह समझमें आनेवाली बात है । मनोहर महाजनजी ने गोपाल शर्माजी के बाद रेडियो सिलोन 1967में श्री दलवीर सिंह परमार के साथ जोईन हुए थे । स्वाभाविक है कि गोपाल शर्माजीने जो काम किया था उनको कहीं न कहीं उस समय की नई जनरेशन के रूपमें श्री मनोहर महाजन और परमार साहबने अपने अपने हिसाब से कुछ हद तक नया निख़ार दिया हो । पर इससे गोपाल शर्माजी को नझरंदाज करना सही तो नहीं होगा ।
पियुष महेता ।
सुरत-395001.

July 2, 2011 2:53 PM

Ati Ullah said...

Commnt Via Facebook:

Thanks Yunus Khan ji and Venkatadri Brahmandam ji.............The introduction and the article was very very nice.Its an honour for we people to have opportunity to connect and share our thoughts with the true music lovers .
Zindabaad Old HFM !
Zindabaad Vividh Bharti !!

"डाक-साब" said...

"the pleasure of listening to songs on Radio comes from the surprise factor of not knowing which song comes next!!!" - वेंकटाद्रि ब्रह्मान्‍डम जी
****************************
लेकिन हम तो कम्बख़्त इस सुख या "pleasure" से भी वंचित हैं....

ठीक कहा ना,यूनुस जी ?
;-)

(बकिया लोग ज़्यादा समझने की कोशिश ना करें ।

ये आपस/अन्दर की बात है !)

Anonymous said...

Venkatadri ji, welcome to the bandwagon of radio-lovers. It is really moving along now. There are thousands and thousands of people who have grown up on a staple diet of old melodious songs....... and you are so right......half the charm lay in not knowing what was coming next. I bought unrecorded cassettes and recorded all kind of music from radio. I still cherish those "discoveries" of mine.


shubhra sharma
via facebook.

डॉ. अजीत कुमार said...

venkat ji,
radionamaa welcomes your such a nice post. hoping you will be continue with such a nice experiences of radio.
thanks.

sanjay patel said...

venkatbhai;
you have rightly underlined the surprise element and its pleasure of listening radio. hearty compliments and welcome to radionama.

Anonymous said...

वेंकटजी की पोस्ट में मझा आ गई.
लेकिन एक बात देखने में आती है कि कुछ लोग कभि भि त्रप्त नहीं होते.जैसे आपके पियुस भाई.इतने बुझुर्ग हे आप.हमेसा मीनमेख क्यू निकालते रेते हे. अब वेंकटकी पोश्ट में भी आप गिना रहे हे कि गोपाल सर्मा और विजयकिसोर दूबे का नाम क्यो नी लिया. अरे भई वेंकटजी की पोश्ट दूबे जी और सर्माजी पर जिस दीन आयेगी उस दिन वह भी हो जाएगा.इस पोश्ट में जो हीरे जवाहरात हे वो आपको नही दीखते और आप फ़िजूल का रस भंग करने बेठ जाते हो.रेडियोनामा चलाने वालो से नीवेदन हे की आप ऐसे कमेंट्स को नीकाल दीया करो.पियूस भाई आप ने जो बात लीखी उस पर से उस सास की याद आ गई जो अपनी बहुत द्वारा अपने मायके से लाये गये दहेज में गहनो और मंहगे उपहारो को नही देखती और अपनी बहू के माता-पीता को दहेज में बाल सवारने की कंघी नहीं देने के लिये ताने देती हे....भगवान के लिये रेडीयोनामा को बेसुरा मत कीजीये...
अमृतभाई कडवा
वडोदरा

सागर नाहर said...

अमृतभाई से सहमति!
मैं पीयूष भाई से अनुरोध करता हूँ कि श्री वेंकटाद्री जी पोस्ट में से नेगेटिविटी की बजाय अच्छी चीजें खोजें। हो सकता है वेंकटाद्रीजी उन सब का जिक्र अगली पोस्ट्स में करें।
और कई बार ऐसा भी होता है कि अन्जाने में कोई नाम छूट जाए तो उसके लिए हम किसी पर नजरांदाजी का आरोप नहीं लगा सकते, ऐसा अक्सर होता है।

Anonymous said...

I do agree Venkatji...50s, 60s, and 70s were the golden period of hindi film music. That music was human, thats why it is still fresh...and listening to any song of that era , we start humming along and get sort of a fit of naostalgia. U atart longing for more and more melodies from that golden period. geet, sangeet aur gayak...kul milker sangeet sudha, jo nasha ker de. Todays music is not human,neither it touches you, nor it get registered. aata hei , chala jata hei. Mechanical beats bhar hein.No geet,No sangeet.Kuchh apwad zarur hein...lekin bahut hi kam.

Anonymous said...

Shubhraji, "Myselfitis"( obsessed with self) se peedit lagti hein.

Anonymous said...

Piyush Ji, jaisa maine kaha thha, mera Radio Ceylon ka silsila khtam hi hua jab ki main chota ladka thhaa!! Phir bhi maine 'sirf Manohar Mahajan' nahi kaha!! I said 'top-notch announcers such as Manohar Mahajan'!!
I did hear V.K. Dubey in later days on some HMV sponsored commercial programs, on VB if I remember right. But, I must say I would not rate him on par with Manohar Mahajan who was superior in voice, accent, modulations, etc.

Venkatadri Brahmandam

डॉ. अजीत कुमार said...

अब इस misunderstanding को यहीं समाप्त होना चाहिए.

yunus said...

बिल्‍कुल। दरअसल हर व्‍यक्ति को उसका 'स्‍पेस' दिया जाए। जरूरी नहीं है कि यादों के कारवां में हर शख्‍स बिल्‍कुल वैसी ही बातें करे--जैसा कोई और चाहता है।

नीरज गोस्वामी said...

इस पोस्ट ने उम्र को बहुत पीछे धकेल दिया है...हम खुशनसीब हैं के उस दौर में पैदा हुए जिसे हिंदी गीतों का स्वर्णिम दौर कहा जाता है...इश्वर की कृपा से माता पिता ऐसे मिले जिनके शरीर में संगीत खून के साथ बहता था...के.एल सहगल, पंकज मालिक, जगमोहन, के सी डे, को सुनते सुनते रफ़ी साहब मुकेश हेमंत कुमार मन्ना दे और किशोर कुमार तक की ये यात्रा बहुत रोमांचक रही...आज गायकों संगीतकारों के नाम याद नहीं रहते जब की उस ज़माने में गायक गीतकार और संगीर्कार का नाम उनके गीतों की तरह ही पापुलर था...रेडिओ सीलोन से हर महीने की पहली तारीख़ को सुबह सुबह किशोर जी की आवाज़ में 'खुश है ज़माना आज पहली तारीख़ है..." बजा करता था जो शायद सालों तक बजता रहा. अमीन सायानी जी की जादुई आवाज़ से सजी बिनाका गीतमाला ने लोगों को रेडिओ का दीवाना बना दिया था. बुधवार रात आठ बजे सब कामकाज छोड़ कर लोगों का रेडिओ से चिपकाना आज तक याद है. अमीन सायानी जी की "गीत माला की छाँव में " के चार वाल्यूम इसी लिए खरीद लाया ताकि उस युग को फिर से दोहरा सकूँ...पुराने गानों को फिर से जीवित करने का साहस "वर्ल्ड सेटेलाईट रेडिओ" ने भी किया था जो अफ़सोस अब बंद हो गया है. आज एफ.एम रेडिओ सिर्फ मजबूरी में कार में ही सुनने लायक रह गया है जिसमें उद्घोषकों की बकबक अधि और संगीत कम होता है.
बहुत यादगार पोस्ट है ये.

नीरज

Anonymous said...

श्री नीरजजी को मालूम हो कि उन्होंनें पहली तारीख़ के शिर्षक गीत का जो जिक्र किया है (गीतकार कमर जलालाबादी यानि ओम प्रकाश भंडारी और संगीतकार स्व. सुधीर फ़डके-जिन्हें एक बार मुम्बईमें स्टेज पर एक साथ देख़ने में खूश नसीब रहा), वह गाना आज के दिनों भी हर पहली तारीख़ को सुबह 7.30 पर प्रसारीत होता है । और एक बात और की यह पहली तारीख़ वाला सिलसीला शुरू करने वाले थे रेडियो सिलोन की हिन्दी सेवा के प्रथम संवर्धक उद्दघोषक स्व. विजय किशोर दूबे साहब और इस जानकारी मूझे इसी वक्त हांसिल हुई जो रेडियो सिलोन के दूसरे संवर्धक उद्दघोषक श्री गोपाल शर्माजी ने फोन पर दी, इस लिये उनका आभारी हूँ ।
पियुष महेता ।
सुरत-395001.

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिये धन्यवाद।

अपनी राय दें