There was an error in this gadget

Monday, August 25, 2008

दि. 24-08-08 स्व. कल्याणजी की पूण्यतिथी पर एक अलग सी श्रद्धांजली पर साझ पहेली नं 2

मित्रो,
कल जानीमानी संगीतकार जोड़ी कल्याणजी-आणंदजी के बड़े भाई तथा लोगो को हसाने में माहीर स्व काल्याणजी की पूण्य-तिथी थी पर लाईफ़लोगर एंट्री सूचीमेँ अपलोड की गई धूने दिख़ने पर देरी हुई जो इनके स्वरदद्ध किये हुए फिल्म सट्टा बाझार के गीत नींद नां मूझको आये की है, वह कल की बजाय आज प्रस्तूत की जा रही है । पर इस गाने की यह एक नहीं पर तीन अलग अलग कलाकारों की बजाई अलग साझों पर है । तो आप को कोशिश करनी है की यह कोनसे साझ और कौन से वादक कलाकार है वह अंदाझा लगाना है ।

तो सुनिये पहेली धून :



और अब इसी गाने की यह है दूसरी धून जो आप विविध भारती से आधी आधी अंतराल मेँ समय समय पर बजती रहती है ।


और अब सुनीये इसी गाने की तीसरी धून :


नज़दीकी दिनोमेँ यह बात मैं इसी रेडियोनामा पर बताऊँगा ।

2 comments:

सागर नाहर said...

धुन कहां है पीयूष भाई?

पीयूष भाई
एक बार अनुरोध है देवनागरी लिखते ( टाइप करते) समय मात्राओं की गलतियाँ बहुत हो रही है, उन पर ध्यान दें।
नहीं तो टाइप कर सेव कर दें और किसी भि सदस्य को कहें वह उसे संपादित कर आपके नाम से पोस्ट कर देगा।

Anonymous said...

श्री सागरभाई,
मात्रा की गलतीयों की बात बराबर है पर आपको धूने नहीं मिली उसका ताज्जूब है ।
पियुष

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिये धन्यवाद।

अपनी राय दें