There was an error in this gadget

Wednesday, October 3, 2007

विविध भारती को पचासवां जन्मदिन मुबारक

जैसा की यूनुस भाई ने कुछ दिन पहले जिक्र किया था की तीन अक्तूबर को विविध भारती के पचास साल पूरे हो रहें हैयूं तो हम बचपन से ही रेडियो सुनते रहे है पर इस बात पर कभी ध्यान ही नही दिया था कि विविध भारती कि शुरुआत कब हुई थी पर इस बार ब्लॉगिंग के परिवार से जुड़कर पता चला कि जिस विविध भारती को हम लोग इतने सालों से सुनते रहे है वो आज पचास साल का हो गया है


यूं अब रेडियो सुनना काफी कम हो गया है पर फिर भी जब भी मौका मिलता है सुन ही लेते है
कितनी ही यादें जुडी हुई है जिन्हे यूं यहां गिनवाने लगे तब तो कोई अंत ही नही होगापर फिर भी कुछ ऐसी बातें होती है जिन्हे हम कभी भी भूल नही पाते हैकितने कार्यक्रम है जैसे छायागीत,पिटारा ,आप की फरमाइश जो आज तक चले रहे है पर कुछ पुराने कार्यक्रम बंद हुए है जैसे चलचित्र की कहानियाँ तो कुछ नए कार्यक्रम शुरू भी हुए जैसे सखी सहेली

वैसे आजकल विविध भारती का रुप भी कुछ बदल गया है पर वो कहते है ना की समय के साथ बदलना अच्छा होता हैअब आप ये तो नही सोच रहे की विविध भारती तो बदला ही नही है पर ऐसा नही हैविविध भारती के पुराने श्रोता जानते होंगे कि पहले तो सुबह की सभा साढे नौ बजे ख़त्म हो जाती थी फिर बारह बजे दोपहर की सभा शुरू होती थी पर अब विविध भारती की सुबह की सभा साढे नौ बजे ख़त्म नही होती है बल्कि उस पर कुछ अच्छे और मनोरंजन से भरपूर कार्यक्रम आते हैअभी हाल ही मे हमने एक दिन सुबह पिटारा कार्यक्रम सुना हालांकि बीच मे से ही सुना था पर काफी ज्ञानवर्धक लगा

विविध भारती की एक खास बात है कि इस पर आने वाले कार्यक्रम हर उम्र के लोगों को ध्यान मे रखकर बनाए जाते थे और जाते हैबच्चों से लेकर युवा ,तो महिलाओं से लेकर बडे-बुजुर्गों तक के लिए कार्यक्रम और संगीत तो लाजवाब ही होता हैपर अब वो signature tune जो हर सभा के शुरू मे बजती थी वो अब शायद बजना बंद हो गयी है क्यूंकि अब तो सभा भंग ना होकर चलती ही रहती है


रेडियो कभी-कभी हमारे जीवन मे कितनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है इसका हमे अनुमान ही नही होता हैऔर कई बार ऐसी स्थिति या हालत होते है जब कोई भी communication का साधन नही होता है उस समय ये रेडियो ही होता है जिससे हम लोगों तक पहुंच सकते हैआज हमे २६ दिसम्बर २००४ मे अंडमान मे आयी सुनामी से जुडी बात याद रही हैजब सुनामी आयी थी तो कुछ समय बाद माने एक-दो घंटे बाद वहां सारे communication के साधन बंद हो गए थे ना फ़ोन काम कर रहे थे और ना ही बिजली थी कि टी.वी.देखा जा सके जिससे कुछ हालात के बारे मे पता चल सके पर एक साधन जो उस समय भी लोगों तक पहुंच पाने मे सफल हुआ वो था रेडियोरेडियो ही एकमात्र सहारा था जिसके द्वारा लोग दूसरे द्वीपों मे रहने वाले अपने रिश्तेदारों को अपनी खैरियत की खबर देते थे और उनकी खैरियत की खबर लेते थेसारा - सारा दिन सिर्फ लोगों के संदेश ही पढे जाते थेहालांकि ये एक तरह से अँधेरे मे तीर चलाने वाली ही बात थी क्यूंकि सुनामी ने जैसी तबाही मचाई थी वो तो हम सभी जानते हैपर फिर भी ये तीर निशाने पर लगा था मतलब की जब दूसरे द्वीप पर रहने वाले संदेश सुनकर अपना संदेश देते थे की वो सही-सलामत है तो आप अंदाजा लगा सकते है की इस रेडियो ने उस समय कितने ही परिवारों को उनके प्रियजनों से मिलवाया थाउस सुनामी के समय मे अगर रेडियो नही होता तो शायद वहां के लोगों को अपने परिवार वालों की खैरियत के बारे मे जानने मे और समय लगता


चलते-चलते विविध भारती के सभी श्रोताओं को और विविध भारती मे कार्यरत सभी लोगों को विविध भारती के पचास साल पूरे करने की बधाई और शुभकामनायें

1 comment:

annapurna said...

ममता जी पहले सवेरे का प्रसारण सुबह साढे नौ बजे समाप्त होता था फिर सवा दस बजे शुरू होता था जिसमें शास्त्रीय संगीत का कार्यक्रम और ग़ैर फ़िल्मी गीत बजते थे और 11 बजे से 1230 तक डेढ घण्टे के लिए फरमाइशी गीतों का कार्यक्रम मन चाहे गीत बजता था जिससे सभा समाप्त होती थी।

इसके बाद 2 बजे से रंग-तरंग कार्यक्रम से सभा शुरू होती थी जिसमे ग़ैर फ़िल्मी ग़ज़ल और गीत बजते थे फिर 230 से फर्माइशी गीतों का कार्यक्रम मनोरंजन होता था 330 तक एक घ्ण्टे के लिए जिसके बाद लोक संगीत और शास्त्रीय संगीत के कार्यक्रम 4 बजे तक फिर 630 बजे से शाम की सभा शुरू होती थी सांध्य गीत से जिसमे फ़िल्मी भजन बजते फिर 645 पर स्वर सुधा होता था जो संगीत सरिता जैसा था उसके बाद जयमाला।

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिये धन्यवाद।

अपनी राय दें