सबसे नए तीन पन्ने :

Saturday, November 3, 2007

विविध भारती पर आज ही नहीं साल भर हर तीन तारीख़ को होगा--जुबली झंकार


पिछले महीने तीन तारीख़ को यानी तीन अक्‍तूबर को विविध भारती ने अपनी स्‍थापना के पचास साल पूरे किए थे । और इस तरह आरंभ हुए विविध भारती के स्‍वर्ण जयंती आयोजन । रेडियोनामा के सभी पाठकों को ये सूचना देनी है कि विविध भारती पर अब हर महीने की तीन तारीख़ को 'जुबली झंकार' नामक विशेष आयोजन किया जायेगा । इस तरह स्‍वर्ण जयंती आयोजनों में श्रोताओं को लगभग ग्‍यारह या बारह विशेष कार्यक्रम सुनने को मिलेंगे ।

इसके अलावा और भी बहुत कुछ होगा विविध भारती के स्‍वर्ण जयंती आयोजनों में । पर यहां मैं आपको बताना चाहता हूं कि तीन नवंबर को आपको क्‍या सुनने मिलेगा ।

तीन अक्‍तूबर के आयोजनों में आपने विविध भारती के ख़ज़ाने के अनमोल मोती सुने थे । जिनमें मशहूर गीतकार, संगीतकार, गायक, निर्देशक, अभिनेता वग़ैरह तो शामिल थे ही । साथ ही कुछ कालजयी रचनाकार भी शामिल थे । इस बहाने आपने ऐसी चीज़ें सुनी जिनकी शायद आपने कभी कल्‍पना भी नहीं की थी । आयोजन को श्रोताओं ने बहुत सराहा, और ये भी कहा कि क्‍या ऐसा नियमित रूप से नहीं हो सकता । और इसका जवाब ये है कि हां हो सकता है ।


जी हां आज दिन में बारह बजे से लेकर शाम साढ़े पांच बजे तक आप सुनेंगे विविध भारती की स्‍वर्ण जयंती पर 'जुबली झंकार' । इस कार्यक्रम के कुछ महत्‍त्‍वपूर्ण हिस्‍सों के बारे में जान लीजिए । पिछले पचास सालों में विविध भारती पर जिन मशहूर फिल्‍मी सितारों ने 'जयमाला' कार्यक्रम प्रस्‍तुत किया उसके अंश पिछले महीने की तीन तारीख़ को मशहूर ब्रॉडकास्‍टर अमीन सायानी ने प्रस्‍तुत किये थे, स्‍टार जयमाला के पहले भाग में । आज दिन में साढ़े बारह बजे से आप सुनेंगे स्‍टार जयमाला का दूसरा हिस्‍सा अमीन सायानी के साथ ।



आज का मनचाहे गीत भी बहुत ख़ास है । इस कार्यक्रम में श्रोताओं से कहा गया है कि ऐसे गानों की फ़रमाईश करें जिनकी उनकी जिंदगी में बहुत ख़ास जगह है । वो गाना उनके लिए क्‍यों अहम है, ये श्रोताओं ने लिख भेजा है । गोल्‍डन जुबली मनचाहे गीत का प्रसारण होगा दिन में डेढ़ बजे से । मनचाहे गीत को प्रस्‍तुत करेंगे कमल शर्मा और रेडियो सखी ममता सिंह । इसके ठीक बाद ढाई बजे से दो फिल्‍मी सितारे आयेंगे रेडियो प्रज़ेन्‍टर बनकर और विविध भारती के ख़ज़ाने के अनमोल मो‍ती भी आप तक पहुंचायेंगे और अपनी बात भी कहेंगे । इस कार्यक्रम में मैं आपसे मुख़ातिब होऊंगा बारह से साढ़े बारह बजे के दौरान निम्‍मी मिश्रा के संग ।

कुल मिलाकर यही है तीन नवंबर का आयोजन ।
उम्‍मीद है कि शनिवार की फुरसत आपको रेडियो पर विविध भारती से रूबरू होने का सुअवसर ज़रूर देगी ।

तो सुनिए सुनाईये सबको बताईये
विविध भारती की गोल्‍डन जुबली मनाईये ।।



अमीन सायानी का चित्र उनकी वेबसाईट से साभार

Technorati tags:
,,

4 comments:

जोगलिखी संजय पटेल की said...

धन्यवाद युनूस भाई...ज्युबिली झंकार की जानकारी देने के लिये.वैसे भी मेरे दफ़्तर में विविध भारती ऑक्सीजन की तरह दस्तेयाब रहती है. मज़ा ये है की एक साथ तीन ट्रांज़िस्टर सैट चलते है मेरे यहाँ..एक फ़्रंट ऑफ़िस में,दूसरा आर्ट डिपार्टमेंट में और तीसरा मेरी प्रिंटरी में. मालूम ही नहीं पड़ता सुबह दस से शाम सात कहाँ बज जाते हैं. रेडियो एक तरह का थकान रिलीवर भी है हमारे लिये...सबसे अच्छी बात ये है कि इससे कामकाज में किसी तरह का विघ्न नहीं पड़ता ..काम करते रहिये और कानों को देते रहिये एक सुरीली खु़राक़.टेलिविजन में ग़ुलामी सी करनी पडती है..रेडियो सखा बना रहता है. आज यानी ३ नवम्बर को तो पूरा दिन सुनेंगे ही ...अभी जब सुबह के सवा आठ बजे ये टिप्पणी लिख रहा हूँ तब बिना सुने ही ये कह सकता हूँ कि इस प्रस्तुति से अनक़रीब दीवाली की खु़शी दुगुनी हो जाएगी.आमीन.

सजीव सारथी said...

jaankaari ke liye dhanyewaad

mamta said...

अरे वाह ये तो बड़ी बढिया जानकारी है।
और इतनी बढिया जानकारी देने के लिए शुक्रिया ।

annapurna said...

आज के विशेष प्रसारण में 12 बजे से यूनुस जी और निम्मी जी की प्रस्तुति में कार्यक्रम अच्छा लगा।

फिर 12:30 बजे 1:30 बजे तक विशेष जयमाला के अंश सुने - प्रेमनाथ, रोशन, मीनाकुमारी, सी रामचन्द्र… और सोने पे सुहागा प्रस्तुति अमीन सयानी की। इसके लिए एक ही शब्द लिखूंगी - वाह !

1:30 बजे से विशेष मन चाहे गीत सुना कमल (शर्मा)जी और ममता जी की प्रस्तुति में जिनमें से अधिकांश गीत मेरी भी पसन्द के थे।

2:30 बजे से यहां का क्षेत्रीय प्रसराण शुरू हो गया और अब 3:00 बजे से फिर हम जुड़ गए है विशेष प्रसारण से और आनन्द ले रहे है राजीव वर्मा और रीता भादुड़ी की बातों का।

अच्छे प्रसारण के लिए विविध भारती परिवार को बधाई !

चलते-चलते एक बात…

क्या यहां लगी तस्वीर रेडियो सखी ममता जी के बचपन की है ?

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिये धन्यवाद।

अपनी राय दें