सबसे नए तीन पन्ने :

Tuesday, November 20, 2007

रेडियो क्विज़ टाइम: गाने पहचानिये

मित्रो‍ पहचानिये कि इस एक ट्रैक में‍ कौन-कौन से गाने हैं ?
पीयूष मेहता से माफ़ी के साथ.

7 comments:

Jagdish Bhatia said...

सही गीतों की धुनें एक दूसरे के साथ नत्थी की हैं, कोई गीत जब तक जुबान पर आ पाये दूसरे की धुन शुरू हो जाती है। फिर भी कुछ गीत पहचान में आ रहे हैं:

१. है इसी में प्यार की आरजू, वो वफा करें मैं जफा करूं
२. बेदरदी बालमा तुझको मेरा मन याद करता है, बरसता है जो आंखों से वो सावन याद करता है

३. आपकी नजरों ने समझा प्यार के काबिल मुझे

४. छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिये ये मुनासिब नहीं आदमी के लिये

५. न तुम बेवफा हो न हम बेवफा हैं, मगर क्या करें अपनी राहें जुदा हैं

Jagdish Bhatia said...

भूल सुधार :
पहला गीत कुछ इस तरह होना चाहिये:

१. है इसी में प्यार की आरजू, वो जफा करें मैं वफा करूं

Dr. Ajit Kumar said...

अन्तिम धुन से पहले एक गीत है शायद "तुम मुझे यूँ भुला न पाओगे..."

मीनाक्षी said...

इरफान जी , सभी मेरी पसन्द के गीत लेकिन दस बार सुनने पर भी भूल भुलैयाँ से निकलने का रास्ता नहीं सूझता...आपको जल्दी से सभी गीत सुनवाने भी होंगे..
1 रुक जा रात ठहर जा रे चन्दा
2 तू जहाँ जहाँ चलेगा मेरा....
3 बेदर्दी बालमा तुझको मेरा मन
4 :(
5 आपकी नज़रों ने समझा प्यार के काबिल ..
6 :(
7 है इसी में प्यार की आबरू
8 न तुम हमें जानो , न हम तुम्हें जाने...
9 :( तुम मुझे यूँ भुला.... (शायद)

annapurna said...

इरफ़ान जी गीतों की सूची यूं है -

1 तुझे जीवन की डोर से बांध लिया है
2 रूक जा रात ठहर जा रे चंदा
3 ओ मेरी जाने वफ़ा ओ मेरी जाने बहारा
तुम मेरे साथ होते हो कोई दूसरा नहीं होता
4 बेदर्दी बालमा तुझको मेरा मन याद करता है
5 आपकी नज़रों ने समझा प्यार के काबिल मुझे
6 है इसी मे प्यार की आबरू
7 तू जहां जहां चलेगा मेरा साया साथ होगा
8 न तुम बेवफ़ा हो न हम बेवफ़ा है
9 तुम मुझे यूं भूला न पाओगे

एक गीत शायद मैं नहीं पहचान पाई। पहले गीत की धुन बहुत ही थोड़ी सी है।

संयोजन मुझे बहुत अच्छा लगा। आशा है यह सिलसिला आप जारी रखेगें

इरफ़ान said...

मीनाक्षी आप तो कमाल करती हैं. कमाल तो जगदीश जी और अजीत जी ने भी कम नहीं किया.
मिलाएं-----------
१.रुक जा रात ठहर जा रे चंदा
२.एहसान तेरा होगा
३.बेदर्दी बालमा
४.आवाज़ देके हमें तुम बुलाओ
५.आपकी नज़रों
६.है इसी में प्यार ई आरज़ू
७.न तुम बेवफ़ा थे
८.तुम मुझे यूं भुला ना पाओगे
९.लग जा गले

PIYUSH MEHTA-SURAT said...

श्री इरफा़नजी,
मेरे लिये तो यह क्विज़, क्विज़ रह ही नहीं पाया क्यों कि मेरे इस पोस्ट पढ़ने के साथ आप के लिखे उत्तर भी सीधे ही पढ़ने मिल गये \ इस बार आपने पिछली बार के मुकाबले उलटा ही किया । कल दो पहर यह ब्लोग मैं देख चूका था, तब रात्री उस पर गया नहीं ।

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिये धन्यवाद।

अपनी राय दें